5th Merit List for B.A I Year has been uploaded.         5th Merit List for B.Sc I Year has been uploaded.         विवेकानन्द जयंती के उपलक्ष में महाविद्यालय में दिनांक 08 जनवरी, 2019 से 12 जनवरी, 2019 तक युवा महोत्         Welcome to Government Naveen Kanya Mahavidyalay,Dantewada        

COLLEGE AT A GLANCE

महाविद्यालय परिचय:-

बैलाडिला की पहाड़ियों के मध्य दक्षिणबस्तरमेंदन्तेवाड़ास्थितहै । रामायण कालमें यह क्षेत्र दण्डकारण्य के नाम से जानाजाताथा। दन्तेवाड़ा ऐतिहासिकनगरहै । जिसकी ऐतिहासिकतापुरातात्विक एवंसांस्कृतिकदृष्टि से है । डंकनीऔर शंखनीनामकदोनदियों के संगमपरभारत के 52 शक्तिपीठोंमें से एक ‘‘ मांदन्तेश्वरी शक्तिपीठ यहॉंस्थितहै । मातृप्रधानआदिवासीजनजीवनमें बिखरेअनेकउपादानसम्पूर्णविश्वकोअपनीओरआकृष्ट करतारहाहै । 


प्रकृतिऔरसंस्कृतिकारिस्ता यहॉंअनूठाहै । दन्तेवाड़ा की लोकसंस्कृतिप्रकृतिकाव्यक्त रूपहै । दन्तेवाड़ा के आदिवासीजनमुरिया, माड़िया, गोड, हल्बा के सभीसंस्कारप्रकृति से उनके रिस्तेकोव्यक्तकरताहै । ‘‘मुरिया‘‘ मुर शब्द से बनाहैजिसकाअर्थ वृक्ष के पत्तेहोतेहैं । ‘‘माड़िया‘‘ शब्दमाड़ से निर्मितहैजिसकाअर्थगुफाहोताहै । ‘‘गोंड‘‘ शब्दकाअर्थपहाड़ होताहै । ‘‘हल्बा‘‘ काअर्थहलवाहकहोताहै । वृक्ष, पत्ते, पर्वत, गुफा के साथसचेतनसंवाददन्तेवाड़ा की अपनीविशिष्टताहै । ‘‘माटीतिहार, आमातिहार‘‘ जैसेपर्वमिट्टी एवं जीवन पोषकफल के प्रतिकृतज्ञताज्ञापितकरनेका रूपहै । यहॉं घोटुलप्रथावरण की स्वतंत्रताऔरनारीपुरूष के विवेककाकालजयीसंस्करणहै । महुआ वृक्ष के मध्य होनेवालागौरनृत्य दन्तेवाड़ा के तेजस्वीजनमन की वाणी है । दन्तेवाड़ाकाप्राकृतिकप्रेमदेशप्रेमकाप्रतिकहै ।


इस क्षेत्र मेंदुनियाकोभावप्रसारकासंदेशदियाहै । आज यहॉंज्ञानप्रसारभीहोरहाहै । ज्ञानमुक्तिकावाहकहै । इसमुक्तचेतनाकोछात्राओं के रचनात्मक एवंलोकसंस्कृति के द्वाराबेहतरतालमेल के उद्देश्य कोलेकर 2007 से इसमहाविद्यालय ने शासकीय नवीनकन्यामहाविद्यालय के नामसे कार्यारम्भकियाहै । सुदूरआदिवासीवनांचलमेंस्थापितदन्तेवाड़ाजिलेका एक मात्र कन्यामहाविद्यालय है । यह महाविद्यालय बस्तरविश्वविद्यालय, जगदलपुर से संबद्ध हैजिसमेंस्नातकस्तरपरकला, विज्ञानतथावाणिज्य संकाय में अध्ययन-अध्यापनकाकार्यसुचारू रूप से संचालितहै ।


स्थापना के बाद से इसमहाविद्यालय में अध्ययनरतछात्राओं की संख्या लगातार बढ़तीजारहीहै, 2007 में 09, 2008 में 35, 2009 में 66, 2010 में 121, 2011 में 133, 2012 में 158, 2013 में 167, 2014 में 178 तथा 2015-16 में 216छात्राएॅं अध्ययनरतहैं ।महाविद्यालय की छात्राऐं अध्ययन के साथबौद्धिक, सांस्कृतिक एवं खेलकूद के क्षेत्र मेंनिरंतरगतिशीलहै ।